{2021} होली पर निबंध | Hindi essay on Holi - Apnadaily

अपनाडेली एक हिन्दी न्यूज ब्लॉग हैं। हमारा उद्देश्य हिन्दी को बढ़ावा देना और लोगों को जानकारी देना हैं। हिन्दी मे सभी प्रकार की जानकारी पाने के लिए हमसे जरूर जुड़े।

बुधवार, 24 मार्च 2021

{2021} होली पर निबंध | Hindi essay on Holi

होली पर निबंध हिंदी में । Hindi essay of Holi

होली पर निबंध हिन्दी में । नमस्कार दोस्तों स्वागत हैं आपका हमारे साइट में। आज मैं आपको होली पर निबंध प्रस्तावना सहित निबंध कैसे लिखे उसके बारे में बताऊँगा। 2021 में होली 29 मार्च 2021 को  मनाया जाना हैं। 

होली पर निबंध |
होली

अकसर बच्चों स्कूलों के दत्त कार्य के रूप में प्रश्न दिया जाता हैं होली पर निबंध लिखो । चूंकि  होली मार्च के ही महीने में आता हैं और वार्षिक परीक्षा भी , इसलिए वार्षिक परीक्षा में भी यह प्रश्न आ जाता  होली पर निबंध लिखिए ।  होली पर एक दमदार निबंध आप हमारे  से लिख सकते हैं। यह निबंध  हिन्दी में हैं । होली पर निबंध इंग्लिश में  पाने  के लिए आप  इसे अनुवाद भी कर सकते हैं। 


होली पर निबंध हिन्दी में 500 शब्दों में

होली पर निबंध की प्रस्तावना। होली हिन्दुओं का एक पवित्र धार्मिक त्योहार हैं। यह त्योहार फाल्गुन माह कि पूर्णिमा को मनाया जाता जाता हैं। इसे रंगों का त्योहार भी कहा जाता हैं। इसे अब पूरी दुनिया में सभी देशों के सभी धर्मों द्वारा मनाया जाता हैं। इसे विभिन्न-विभिन्न रंगों के इस्तेमाल से मनाया जाता हैं। होली एकता और भाईचारे का त्योहार हैं। इसे बुराई की हार और अच्छाई की जीत के लिए मनाया जाता हैं


होली कैसे मनाई जाती हैं? होली के दिन भारत के सभी घरों मे पकवान बनाए जाते हैं। होली का त्योहार सभी लोग रंग लगाकर और गले मिलकर मानते हैं। इस दौरान धार्मिक और फाल्गुन लोकगीत भी गाई जाती हैं। आज के आधुनिक जमाने मे ज़्यादातर जगह डीजे मे होली गीत मे रंग लगाकर और नाचकर मनाया जाता हैं। भारत के विभिन्न भागों मे होली अलग-अलग तरीकों से मनाई जाती हैं। कई जगह इसे अलग नाम से भी मनाया जाता हैं। हमारे राज्य छत्तीसगढ़ मे इसे बड़े धूम-धाम से माने जाता हैं। इस दिन नगाड़ा बजाकर होली मनाया जात हैं। होली के दिन गेड़ी मे चढ़ने का भी प्रचलन काफी प्रसिद्ध हैं। हमारे देश की कुछ प्रसिद्ध होली;-
  • वृन्दावन की होली
  • बरसाने की होली
  • मथुरा की होली
  • ब्रज की होली
  • काशी की होली


होली क्यू मनाई जाती हैं? होली के एक दिन पहले होलिका दहन मनाया जाता हैं। होली के पीछे एक प्राचीन इतिहास हैं। प्राचीन समय मे हिरण्य कश्यप नाम का एक असुर था। हिरण्य कश्यप भगवान विष्णु का विरोधी था। हिरण्य कश्यप भगवान विष्णु के पूजन करने वालों का भी विरोधी था। हिरण्य कश्यप की एक एक छोटी बहन भी थी जिसका नाम होलिका था। होलिका भी हिरण्य कश्यप की तरह विष्णु विरोधी थी। लेकिन हिरण्य कश्यप का एक बेटा था जिसका नाम प्रह्लाद था। प्रह्लाद एक विष्णु भक्त था। हिरण्य कश्यप को प्रह्लाद का विष्णु भक्त होना बिल्कुल भी पसंद नहीं था। एक बार हिरण्य कश्यप प्रह्लाद को चुनौती देता हैं की यदि विष्णु सच में हैं तो तुझे सच में आकर बचाए। चूंकि हिरण्य कश्यप की बहन को आग में न जलने का वरदान मिला होता हैं। हिरण्य कश्यप होलिका को प्रह्लाद के साथ आग बैठने का आदेश देता हैं। भगवान विष्णु की कृपया से प्रह्लाद बच जाता हैं वही होलिका जलकर भस्म हो जाती हैं।



2021 में होली कैसे मनाई जाएगी? कोरोना वायरस के चलते इस साल होली कुछ अलग अंदाज में मनाई जाएगी। 2021 में होली में ज्यादा लोगों की जमावट को प्रतिबंधित कर दिया गया हैं। कोरोना के चलते काफी जगह लॉकडाउन भी रहेगा। इस बार होली काफी सीमित तरीके से मनाया जाएगा। पिछले साल भी कुछ ऐसा ही माहौल था। इस साल थोड़ी बहुत छूट जरूर रहेगी।





आज आपने क्या सीखा 

उम्मीद हैं आपको होली पर निबंध पसंद आया होगा। यदि आपको निबंध पसंद आया होगा तो इसे शेयर जरूर करें। आप इसकी पीडीएफ़ डाउनलोड कर सकते हैं। ऐसे ही और अन्य निबंध या भाषण डाउनलोड करने के लिए आप हमारे ब्लॉग से जरूर जुड़े। यदि आपको यह होली पर निबंध पसंद आया होगा तो आप ईमेल सब्स्क्रिप्शन  भी ले सकते हैं। 

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

please do not enter any spam comment in comment box.