ISRO के आने वाले धमाकेदार मिशन। ISRO UPCOMING MISSIONS - Apnadaily : अपनाडेली हिन्दी ज्ञान

अपनाडेली एक हिन्दी न्यूज ब्लॉग हैं। हमारा उद्देश्य हिन्दी को बढ़ावा देना और लोगों को जानकारी देना हैं। हिन्दी मे सभी प्रकार की जानकारी पाने के लिए हमसे जरूर जुड़े।

Breaking

Home Top Ad

Post Top Ad

मंगलवार, 3 नवंबर 2020

ISRO के आने वाले धमाकेदार मिशन। ISRO UPCOMING MISSIONS

ISRO के आने वाले धमाकेदार मिशन। ISRO UPCOMING MISSIONS.



दोस्तों हम सभी भारतीयों को अपने इसरो के सारे पिछले मिशन की जानकारी हैं। इसरो हमारे देश का नाम बहुत आगे कर रहा हैं। इसरो के आने वाले मिशन इतने दमदार हैं की यह नासा को टक्कर दे सकता हैं। आने वाले पाँच सालों मे इसरो बहुत कुछ और हासिल कर सकता हैं। आज मे आपको इसरो के कुछ अप्कमींग मिशन के बारे मे बताऊँगा। 







चंद्रयान 3 


यह मिशन मार्च 2021 मे निर्धारित हैं। लेकिन इसके लेट होने की संभावनए भी हैं। कोरोना काल के कारण सायद इसे आगे बढ़ाया जा सकता हैं। आपको पता होगा चंद्रयान 2 मे कुछ सिग्नल की समस्या होने के कारण लैंडर  क्रैश कर गया। इस बार चंद्रयान मे लैंडर और रोवर दोनों होगा। 



Specialized X-ray telescope

XPoSat and its polarimeter instrument POLIX. Credit: ISRO
         

यह टेलिस्कोप इंडिया क पहला टेलिस्कोप होगा। यह 2021 मे लॉन्च किया जाएगा। PSLV रॉकेट के जरिए इसे लॉन्च किया जाएगा। यह एक  XPoSat(X-ray Polarimeter Satellite) टेलिस्कोप होगा। XPoSat काज़्मिक एक्स रे के पोलराइजेसन की स्टडी करेगा। 



NISAR

An artist’s impression of the NASA-ISRO Synthetic Aperture Radar. Credit: NASA


NISAR का फूल फोरम NASA-ISRO Synthetic Aperture Radar हैं। यह मिशन भी 2021 मे पूरा किया जाएगा। यह नासा की मदद से पूरा किया जाएगा। इसकी लागत 1. 5 बिलियन होगी अर्थात 1.1 खराब रूपीए होगा। यह अब तक का सबसे महंगा सेटेलीते प्रोग्राम होगा। इसे GSLV के द्वारा लॉन्च किया जाएगा। 




भारत का पहला  Solar Observatory

A schematic illustration of Aditya-L1 and its instruments. Credit: ISRO


आदित्य-L1 भारत का पहला  Solar Observatory हैं जिसे 2021 मे लॉन्च किया जाएगा। यह मिशन सूर्य के कोरोना की पढ़ाई करेगा। सूर्य का कोरोना अर्थात सूरज का सबसे ऊपरी भाग या सूरज की सतह। इसे हेलो ओरबिट मे विस्थापित किया जाएगा लगभग 15 लाख किलोमीटर दूर। 
यह मिशन भी 2021 के अंत या 2022 के शुरुआत मे होने की संभावना हैं। इसे PSLV-XL के द्वारा भेज जाएगा। 
इसे अर्थ और सूर्य के बीच उस जगह मे  रखा जाएगा जहा दोनों की गुरुत्वाकर्षण शून्य हो जाएगी। इसमे कुल सात प्रकार के मशीन  लगे होंगे जो पृथ्वी और सूरज के सतह की पढ़ाई करेगा। 






दोस्तों यह इसरो के 2021 के कुछ बड़े मिशन हैं इसके आलवा इसरो के की और छोटे मिशन हैं। उम्मीद हैं आपको यह पसंद आएगा। आपको बात दे इसरो के 2030 तक के सारे मिशन सामने आ चुके हैं। 








कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

please do not enter any spam comment in comment box.

Post Bottom Ad