Google ने 10 बिलियन डॉलर के भारत के निवेश के साथ Reliance के Jio प्लेटफ़ॉर्म का समर्थन किया हैं - गूगल की पेरन्ट कंपनी अल्फाबेट गूगल की Jio प्लेटफार्मों में 7.7% हिस्सेदारी के लिए $ 4.5 बिलियन मे हिस्सेदारी खरीदेगी, जो रिलायंस इंडस्ट्रीज की डिजिटल शाखा को अपनी बुलंदियों का एहसास कराने में मदद करेगी। आपको बात दे हाल ही मे फैसबुक ने रिलायंस इंडस्ट्रीज के 9 प्रतिशत शेयर खरीदे थे और 5.7बिलियन डॉलर इनवेस्टमेंट की था।
https://www.google.com/search?rlz=1C1CHNY_enIN907IN907&sxsrf=ALeKk02DvSm2bOZgySRXD_S38-vBLlV2Ig%3A1594873317901&ei=5dUPX7bONsqbkwX76LboDA&q=google&oq=google&gs_lcp=CgZwc3ktYWIQAzIECCMQJzIECCMQJzIECCMQJzIKCAAQsQMQgwEQQzIKCAAQsQMQgwEQQzIECAAQQzIICAAQsQMQgwEyCAgAELEDEIMBMgUIABCxAzIFCAAQsQM6BwgjEOoCECdQpilY4DJgqzVoAXAAeACAAZ0EiAGrE5IBBTQtMy4ymAEAoAEBqgEHZ3dzLXdperABCg&sclient=psy-ab&ved=0ahUKEwj21MyM9tDqAhXKzaQKHXu0Dc0Q4dUDCAw&uact=5




अरबपति मुकेश अंबानी द्वारा चलाई जा रही भारत की सबसे मूल्यवान कंपनी, Reliance ने अब लगभग 33% Jio Platforms बेच दिए हैं, जिनमें संगीत, मूवी ऐप्स और टेलीकॉम उपक्रम Jio Infocomm 1.52 ट्रिलियन रुपये (20.22 बिलियन डॉलर) में बिके हैं। फेसबुक ने अप्रैल के अंत में फर्म को खरीदा था।




Google के एक कार्यकारी ने एक साक्षात्कार में रायटर को बताया की Google ने Jio प्लेटफ़ॉर्म पर लेन-देन के हिस्से के रूप में एक बोर्ड सीट हासिल की,। जिओ मे फैसबुक की एक सीट भी हैं।

अंबानी ने कहा कि Google के साथ सौदा रिलायंस की भारत मे तकनीकी महत्वाकांक्षाओं को बढ़ावा देगा, जैसे कि स्मार्ट घरों का निर्माण, Amazon.com इंक की एलेक्सा वॉयस असिस्टेंट कनेक्टेड कारों , AI एवं सुरक्षा प्रणालियों के समान समाधानों का उपयोग करना।




Jio और Google भारत के लिए एक कम लागत वाले "4G या यहां तक कि 5G स्मार्टफोन" का निर्माण करने के लिए भी भागीदार होंगे

, ”अलफाबेट के सीईओ सुंदर पिचाई ने एक वीडियो संदेश में बताया कि Jio पर निवेश“ Google पहला और सबसे बड़ा निवेश हैं। Google यह निवेश 4.5 बिलियन डॉलर( 3,38,54,62,50,000.00 Indian Rupee) के साथ करेगा




Jio Infocomm, Jio Platforms का मुख्य आधार और 387 मिलियन से अधिक उपयोगकर्ताओं के साथ भारत का सबसे बड़ा मोबाइल वाहक हैं, Google की पहुंच को उस देश में भी व्यापक बनाएगा जहाँ इसकी 1.3 बिलियन जनसंख्या में से लगभग 500 मिलियन लोग इंटरनेट का उपयोग करते हैं।

जिओ ने डेटा स्थानीयकरण और डिजिटल भारत जैसे अभियानों के माध्यम से फेसबुक और Google जैसी बड़ी तकनीकी कंपनियों के लिए भारत मे बहुत जजयड मुसकीले खड़ी कर दि है




कंपनी ने कहा कि रिलायंस ने जिओ प्लेटफॉर्म्स के लिए क्वालकॉम इंक और इंटेल कॉर्प का समर्थन हासिल कर लिया है, उसने इन-हाउस 5 जी समाधान तैयार किया है और एयरवेव उपलब्ध होते ही 5 जी सेवाओं को रोलआउट करने के लिए तैयार है।

Post a Comment

please do not enter any spam comment in comment box.

नया पेज पुराने